सऊदी अरब में शिया मस्जिद में आत्मघाती बम विस्फोट, 4 लोगों की मौत, 18 घायल                                                 पाक में मौजूद आतंकियों के सुरक्षित पनाहगाह समस्या पैदा कर रहे: अमेव्यापारी नेता मिले मंत्री गोप जी सेरिकी जनरल                                            पूर्वी रूस में 7.0 तीव्रता का भूकंप, सुनामी का खतरा नहीं

इंटीरियर में चार चांद लगा देता है कालीन

किसी भी कमरे में बिछा कालीन उसके इंटीरियर में चार चांद लगा देता है परंतु कालीन खरीदने से पहले बहुत-सी बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी होता है । जहां एक ओर कालीन के रोयों से उसकी भीतरी परत का निर्धारण होता है वहीं दूसरी ओर कालीन के रेशे से उसकी बाहरी परत बनती है । कालीनों में जिन आम रेशों का इस्तेमाल किया जाता है उनमें नायलॉन, पॉलिएस्टर, पोलीप्रोपलीन और ऊन शामिल हैं । नायलॉन, पॉलिएस्टर और पोलीप्रोपलीन सब से मजबूत और टिकाऊ सामग्री है। इस सामग्री में रंगों और पैट्रनों की भी काफी वैरायटी उपलब्ध है । यह सामग्री अत्यधिक जलरोधी और दागरोधी होती है ।
- प्रत्येक कालीन गद्दी के साथ मिलता है । कुछ कालीनों में पतली गद्दी होती है तो कुछ में मोटी, सही तरीके की गद्दियों के साथ कालीन अधिक सुविधापूर्ण और आरामदायक हो जाता है । मुलायम मोटी गद्दियां अधिक आरामदायक नहीं होतीं, इनकी अपेक्षा ऐसी ठोस गद्दियां अधिक उपयुक्त और आरामदायक होती हैं जो पतली होती हैं । 
- कालीन के रंग के चुनाव पर भी बहुत अधिक ध्यान देने की जरूरत है। जब भी कालीन खरीदें तो ऐसे कलर का चुनाव करें, जो आपके घर के बाकी सजावटी सामान से मेल खाता हो । 
रख-रखाव के टिप्स
- जब कालीन पर फर्नीचर रखा गया हो तो इससे रास्ता बन जाता है जिससे कालीन पर टूट-फूट हो जाती है, अत: कालीन पर से फर्नीचर को इधर-उधर करती रहें ।
- अपने कालीन को सूर्य की सीधी रोशनी से दूर रखें क्योंकि इसके जिस भाग पर सूर्य की रोशनी पड़ती है वहां से इसका रंग हल्का हो जाता है जो देखने में अच्छा नहीं लगता । अत: कालीन को महीने में कम से कम एक बार घुमाएं अर्थात धूप वाले हिस्से को छाया की तरफ कर के बिछाएं और छाया वाले को धूप की तरफ कर दें ।

News Posted on: 18-06-2015
वीडियो न्यूज़
मासिक राशिफल