सऊदी अरब में शिया मस्जिद में आत्मघाती बम विस्फोट, 4 लोगों की मौत, 18 घायल                                                 पाक में मौजूद आतंकियों के सुरक्षित पनाहगाह समस्या पैदा कर रहे: अमेव्यापारी नेता मिले मंत्री गोप जी सेरिकी जनरल                                            पूर्वी रूस में 7.0 तीव्रता का भूकंप, सुनामी का खतरा नहीं

फीडबैक सही दशा से मिलेगी दिशा

हम अपनी कामकाजी जिंदगी का एक-तिहाई हिस्सा ऑफिस में गुजारते हैं। अपने काम के प्रति सदैव सकारात्मक रहते हैं, काफी मेहनत करते हैं, सारा काम समय से पूरा करते हैं। इसके बावजूद हमें यह पता नहीं चल पाता कि हमारी परफॉर्मेंस कैसी है और बॉस हमारे काम से किस हद तक संतुष्ट हैं। कई बार तो यह भी आभास नहीं हो पाता कि ऑफिस में हमारी भूमिका किस स्तर की है। इन सब का असर हमारे प्रदर्शन पर पड़ता है तथा उत्पादन प्रभावित होता है। देखा जाए तो यह सारा खेल 'फीडबैक' की कमी का है। बिना फीडबैक के काम शुरू करने का मतलब है बिना किसी मैप या संकेत चिह्न के यात्रा शुरू करना। आपके पास भले ही काम की अच्छी समझ हो, लेकिन काम को ट्रैक पर रखने के लिए यह पर्याप्त नहीं है। यदि कर्मचारियों के पास थोड़ा सा भी फीडबैक हो तो वे काम को ट्रैक पर ला सकते हैं। 
फीडबैक फैमिनअकसर देखा गया है कि कर्मचारी पूरे जोश के साथ अपना काम करते हैं, लेकिन फीडबैक के अभाव में निरंतर एक तरह की गलतियां दोहराते रहते हैं। बॉस व कर्मचारियों के बीच सुझाव और फैसले में समानता न होकर विरोधाभास नजर आता है। इस स्थिति को फीडबैक फैमिन कहा जाता है। यह फीडबैक फैमिन किसी भी कंपनी के लिए खतरनाक होता है। इससे कंपनी का कामकाज तो प्रभावित होता ही है, कर्मचारियों की कार्यशैली में भी कोई सुधार नहीं हो पाता, चाहे कंपनी किसी भी स्तर की हो।
मिलती है भरपूर ताकत आपको ऐसे कई लोग मिलेंगे, जो सफलता के शिखर पर हैं। निश्चित तौर पर उन्होंने भी कठिन परिस्थितियों एवं चुनौतियों का सामना किया होगा, दूसरों से अपने कार्यों के बारे में फीडबैक लिया होगा। सही मायने में फीडबैक हमें दिशा दिखाता है कि यदि हम सही रास्ते पर न हों तो खुद को पटरी पर लाएं।
सफलता और असफलता का अंतरफीडबैक एक आसान व पावरफुल मैनेजमेंट टूल है। यह कर्मचारियों की संतुष्टि व उत्पादन बढ़ाने का काम करता है। इसके जरिए सफलता व असफलता का अंतर जाना जा सकता है। यदि किसी को समय रहते उसके प्रदर्शन में कमी का पता चल जाए तो सुधार के अवसर व संभावनाएं बढ़ जाती हैं। इसीलिए काबिल कर्मचारी अपने वरिष्ठों की बात गहराई से सुनता है।
सुनने को भी तैयार रहेंदूसरों के मुख से अपने प्रदर्शन की निंदा सुनना आसान नहीं होता, जबकि सच्चाई यह है कि फीडबैक मिले बिना आप अपने बारे में दूसरों की राय नहीं जान पाते। हमें अपनी सेवा या उत्पाद की गुणवत्ता का अनुमान नहीं हो पाता। फीडबैक लेने के साथ शिकायत सुनने का धैर्य भी रखें। इसे सकारात्मक पहल के रूप में लें। हम चाह कर भी फीडबैक की उपेक्षा नहीं कर सकते। छात्र भी तो परीक्षा परिणाम के रूप में फीडबैक ही पाते हैं।
कई हो सकते हैं स्रोतफीडबैक कई स्रोतों मसलन मैनेजर, सुपरवाइजर, मेजरमेंट सिस्टम, क्वालिटी कंट्रोल टीम, मित्र समूह, कस्टमर से मिल सकता है। इसमें जरूरी यह नहीं है कि फीडबैक किस स्रोत से मिल रहा है, देखने वाली बात यह है कि यह फीडबैक कितना विश्वसनीय है और इस पर काम कर कंपनी को किस हद तक तरक्की की राह पर ले जाया जा सकता है। 
संदेश सकारात्मक होफीडबैक के बारे में यह आम धारणा है कि यह नेगेटिव ही होगा, इसलिए इसे सकारात्मक तरीके से दिया जाना चाहिए, ताकि कर्मचारियों को यह लगे कि यह उनके और कंपनी के हित की बात है। कई बार कर्मचारियों की ओर से बेहतर प्रदर्शन नहीं हो पा रहा है और बॉस को नेगेटिव फीडबैक देना है तो फिर उन्हें कहानी बदलनी पड़ेगी। उन्हें कर्मचारियों को हतोत्साहित न करते हुए अपना संदेश और जरूरत उन तक पहुंचानी होते हैं। यह काम बहुत ही सावधानीपूर्वक करना का है।
जरूरतों को भी समझेंयदि आप टीम लीडर या मैनेजर हैं और आपको कर्मचारियों को फीडबैक देना है तो इसके लिए आपको कई तरह की तैयारी भी करनी होगी। आपको कर्मचारियों की जरूरतों को भी सुनना पड़ेगा और उन्हें यह भरोसा दिलाना होगा कि आप उनके आइडियाज और जरूरतें सुनने के लिए तैयार और इच्छुक हैं। अपने स्तर की कमियां होने पर कर्मचारियों से तर्क-कुतर्क न कर उसे स्वीकार कर लेना सही एप्रोच साबित होगा।
फीडबैक के फायदेकिसी भी वर्कप्लेस पर फीडबैक के ढेरों फायदे हैंआपसी समझ: वर्कप्लेस पर फीडबैक मिलने से कर्मचारियों के बीच एक आपसी समझ विकसित होती है कि अच्छी परफॉर्मेंस के लिए क्या जरूरी है। कर्मचारी उस हिसाब से अपना काम आगे बढ़ाते हैं।
विशिष्टता: फीडबैक तब सटीक काम करता है, जब वह किसी खास लक्ष्य से सम्बद्ध हो। कर्मचारी फिर उसी के हिसाब से अपने काम में गति अथवा बदलाव लाते हैं। इससे काम की गति 10 प्रतिशत तक बढ़ सकती है।
समयबद्धता: कर्मचारियों को यदि उनके काम का फीडबैक मिले तो वे पूरी कोशिश करते हैं कि किस तरह से उनका काम नियत समय तक पूरा हो। यदि काम में कुछ बदलाव भी हो तो उससे काम प्रभावित नहीं होता। 
आत्म-सुधार: फीडबैक से सिर्फ कर्मचारी एवं कंपनी की परफॉर्मेंस में ही सुधार नहीं होता, बल्कि इससे खुद में भी सुधार होता है। आप उसी दिशा में कदम बढ़ाते हैं, जो कंपनी को फीडबैक फैमिन से बाहर निकालती है।
बेहतर तरीका: फीडबैक की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इससे काम करने का बेहतर तरीका मिलता है। कर्मचारी फोकस्ड होकर काम करते हैं। बस वह सकारात्मक दृष्टिकोण आपको भी अपनाना चाहिए।
समस्या-सुधार: कंपनी की मूलभूत समस्याएं क्या हैं तथा इनसे कैसे जल्दी निजात मिल सकती है, यह फीडबैक से पता चल जाता है। इसके बाद सभी लोग मिल-जुल कर नए आइडियाज सामने लाते हैं और हल निकालने की कोशिश करते हैं।

News Posted on: 29-12-2015
वीडियो न्यूज़
मासिक राशिफल